Sunday, 1 August 2021

143 - भजन सिमरन हर रोज एक संघर्ष

दयाबाई सावधान करती हैं कि सतगुरु को मनुष्य-भाव से देखने और समझने की अज्ञानता नहीं करनी चाहिये । सतगुरु के शरीर की ओर नहीं, बल्कि उनके अंदर काम कर रही प्रभु की शक्ति की

Saturday, 17 July 2021

142 - परमात्मा तक पहुँचने का सही रास्ता क्या है?

नाम बहुत मुश्किल से कमो भागों वालों को मिलता है इस सत्य को जानो और इसकी संभाल करो. नाम की कमाई करो उनसे पूछ के देखो जिन्हे नाम नहीं मिला कितना तरसते है. नाम लेने के लिए कयोकि जो सतगुरू जी ने हमें

Sunday, 27 June 2021

141 - जीवन क्या है ?


एक पवित्र यज्ञ। लेकिन उन्ही के लिए जो सत्य के लिए स्वयं की आहुति देने को तैयार होते है।

Sunday, 13 June 2021

140 - जीवन में दुःख हमे परमात्मा से कैसे जोड़ता है ?

एक सूफी फकीर थे, शेख फरीद साहिब। उनकी  प्रार्थना में एक बात हमेशा होती थी – उसके शिष्य उससे पूछने लगे कि यह बात हमारी समझ में नहीं आती, हम भी प्रार्थना करते हैं, औरों को भी हमने

Sunday, 6 June 2021

01 - रूहानी संत जीवन परिचय - पूज्य वकील साहिब जी का

  मै बहादुर चंद (वकील) सुपुत्र श्री मनी राम जी बिश्नोई (सिहाग) माता श्रीमती मनोहरी देवी गाँव चौटाला तहसील मंडी डबवाली जिला सिरसा(हरियाणा) का रहने वाला हूँ I मेरा जन्म 10 दिसम्बर 1943 को गाँव चौटाला में हुआ I मुझे बचपन से ही एकांत में रहने का शौक था मेरी उम्र आठ साल

Sunday, 30 May 2021

139 - रूह पर किसका हुकम चलता है ?

 


सिमरन सिमरन सब करे,  
सिमरन करे ना कोए।

जो तन मन से सिमरन करे, वो ही सतगुरु का होए।

Saturday, 22 May 2021

138 - शब्द का खुलना और शब्द से जुड़ना का क्या मतलब है ?

सिमरन करने वाला मनुष्य खुद को कभी अकेला या असहाय अनुभव नहीं करता क्योकि अब उसके साथ परमात्मा खड़ा होता है। सिमरन बेकार कभी नहीं जाता। सत्य तो केवल यही है कि परमात्मा की

Saturday, 17 April 2021

137 - सत्संग की अथवा मालिक की बातें करने का क्या अर्थ है ?

परमात्मा का कोई धमॆ नही होता. मौन के क्षणों मे आप जहां बैठ गए वही तीथॆ बन जाते है. वही परमात्मा नाचने लगता है. मौन होना सीखें, यह मौन ही ध्यान है इसी ध्यान के क्षण मे आप परमात्मा

Saturday, 3 April 2021

136 - मालिक हमे दुःख क्या देता है ?

मालिक दुख उसे ही देता है जिसे अपने करीब लाना चाहता है.  प्रभु ये दुःख भी तेरी किरपा है जो मुझे तेरी याद दिलाते है.

Friday, 26 March 2021

135 - भजन और भोजन की क्या महत्वता है ?

एक भिखारी सेठ के घर के बाहर खड़ा होकर भजन गा रहा था और बदले में खाने को रोटी मांग रहा था। सेठानी काफी देर से उसको कह रही थी,आ रही हूँ। रोटी हाथ मे थी पर फिर भी कह रही थी की

Popular Posts