Monday, 15 July 2019

062 - बच्चे से पूछा गया कि तुम्हारी आखिरी इच्छा क्या है ?

एक राजा बहुत दिनों से पुत्र की प्राप्ति के लिए आशा लगाए बैठा था लेकिन पुत्र नहीं हुआ, उसके सलाहकारों ने तांत्रिकों से सहयोग लेने को कहा - 

Thursday, 4 July 2019

रूहानी मार्ग की बातें - काश की मेरे ऊपर भी इतनी दया-महर हो जाये

1. जो व्यक्ति लगातार अंदर सिमरन-अभ्यास करते रहने की आदत डाल लेता है, उसे बड़ा सुकून मिलता है और उसे लगातार सिमरन करते रहने की इतनी जबरदस्त आवश्यकता महसूस होती है कि वो इसके बिना रह

Thursday, 27 June 2019

061 - सोचो कि यह शरीर मिला किस लिए है ?

     
लाहौर में लाहौरी और शाहआलमी दरवाजों के बाहर कभी एक बाग़ था। वहाँ एक फ़क़ीर था। उसके दोनों बाज़ू नहीं थे। उस बाग़ में मच्छर भी बहुत होते थे। मैंने कई बार  देखा उस फ़क़ीर को। आवाज़

Thursday, 20 June 2019

060 - रुह को अन्दर जानें में कोनसी रुकावट है ?


"कर नैनों दीदार महल में  प्यारा है."
इस शब्द के द्वारा कबीर साहब नें अन्दर का भेद जितना खोला है उतना किसी भी संत ने नहीं खोला. इस पर सतसंग करते हुये महIराज सावन सिंह जी फर्माते हैं  - 

Thursday, 13 June 2019

059 - एक सत्संगी को कुत्ते से क्या सीखना चाहिए ?



कुत्ते में 10 ऐसी बातें पाई जाती हैं जो इंसान में कम पाई जाती हैं इसलिए कुत्ता उस इंसान से हजार गुना अच्छा है जिसमें यह 10 बातें नहीं पाई जाती.

1. कुत्ता भूखा रहता है और भूखा रहना बजनी व्यक्ति का लक्षण है.

Thursday, 6 June 2019

058 - कभी सोचा है कि हमें किस किस चीज़ का हिसाब देना पड़ेगा ?

एक मुल्क का बादशाह बीमार हो गया, जब बादशाह ने देखा के उसके बचने की कोई उम्मीद नहीं तो उसने अपने मुल्क में ऐलान करवा दिया कि वो अपनी बादशाहत उस के नाम कर देगा जो उसके मरने के बाद

Saturday, 25 May 2019

रूहानी मार्ग की बातें - सारी परेशानियां खत्म हो जाएंगी

1. जो परमात्मा से जुड़े होते है, उन्हें ना तो ज़मीन जायदाद का और ना रिश्तों के छूटने का डर होता है I उन्हें तो वस एक परमात्मा सेे जुड़े रहने का नशा होता है .

Saturday, 18 May 2019

057 - संत कर्म-बंधन कैसे काटते हैं ?

एक बार दशम पातशाही श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी का दरबार सजा हुआ था। कर्म-फल के प्रसंग पर पावन वचन हो रहे थे कि जिसकी जो प्रारब्ध है उसे वही प्राप्त होता है कम या अधिक किसी को प्राप्त नहीं होता क्योंकि अपने किये हुये कर्मों का फल जीव को भुगतना ही पड़ता है।

Wednesday, 8 May 2019

056 - सबके कर्म और भाग्य अलग अलग क्यों ?

एक बार एक राजा ने विद्वान ज्योतिषियों और ज्योतिष प्रेमियों की सभा बुलाकर प्रश्न किया कि - मेरी जन्म पत्रिका के अनुसार मेरा राजा बनने का योग था मैं राजा बना , किन्तु उसी घड़ी मुहूर्त में अनेक जातकों ने जन्म लिया होगा जो राजा नहीं बन सके क्यों ? इसका क्या कारण है ?

Friday, 26 April 2019

055 - आत्मा की खुराक क्या है ?

किसी व्यक्ति को बहुत जोरो की प्यास लगी हो वह प्यास के मारे तड़प रहा हो उसे पानी न मिल रहा हो अन्य तमाम प्रकार के पेय पदार्थ उसे पिलाये जाये तो उसकी प्यास पूर्ण रूप  से समाप्त नही होगी । थोड़ी देर बाद वह फिर प्यास से तड़पने लगता है  जब कोई व्यक्ति कही से पानी लाकर उसे पिला देता है तो उसकी प्यास

Popular Posts