Saturday, 10 September 2022

166 - पुण्य और कर्तव्य में क्या अंतर है ?

एक बार की बात है एक बहुत ही पुण्य व्यक्ति अपने परिवार सहित तीर्थ के लिए निकला। कई कोस दूर जाने के बाद पूरे परिवार को प्यास लगने लगी, ज्येष्ठ का महीना था, आस पास कहीं पानी नहीं दिखाई पड़ रहा था। उसके बच्चे प्यास से व्याकुल होने लगे। समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या करे।

Sunday, 7 August 2022

165 - प्रभु की प्राप्ति किसे होती है ?

एक राजा था। वह बहुत न्याय प्रिय तथा प्रजा वत्सल एवं धार्मिक स्वभाव का था। वह नित्य शनि देव की बडी श्रद्धा से पूजा-पाठ व स्तुति करता था।

एक दिन शनि देव ने प्रसन्न होकर उसे दर्शन दिये तथा कहा -- "राजन् मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हूं।

Monday, 4 April 2022

164 - दसवें द्वार को खोलने के लिए कोनसी चाबी काम आती है ?

किसी गाँव में एक ताले की दुकान थी, ताले वाला रोजाना अनेकों ताले तोडा करता और अनेकों चाबियाँ भी बनाया करता था।ताले वाले की दुकान में एक बच्चा भी रोज काम सीखने आया करता

Sunday, 20 March 2022

163 - हमें सत्संग में जाने की क्या जरूरत है ?

एक बार एक युवक पुज्य कबीर साहिब जी के पास आया और कहने लगा, ‘गुरु महाराज! मैंने अपनी शिक्षा से पर्याप्त ज्ञान ग्रहण कर लिया है।

Saturday, 12 February 2022

162 - दाने दाने पर कैसे लिखा है खाने वाले का नाम ?

              एक समय की बात है कि श्री गुरू नानक देव जी महाराज और उनके 2 शिष्य बाला और मरदाना किसी गाँव में जा रहे थे। चलते चलते रास्ते में एक मकई का खेत आया। बाला स्वभाव से

Friday, 4 February 2022

161 - स्वामीजी आपके गुरु कौन है ?

 

 

बहुत समय पहले की बात है, किसी नगर में एक बेहद प्रभावशाली महंत रहते थे। उन के पास शिक्षा लेने हेतु दूर दूर से शिष्य आते थे। एक दिन एक शिष्य ने महंत से सवाल किया,  स्वामीजी आपके गुरु कौन है ?

Saturday, 18 December 2021

160 - इस जगत में चार राम कोनसे है ?

एक बार किसी ने कबीर जी से पूछा किसको भज रहे हो जी? कबीर जी ने कहा " राम जी को"

फिर उसने पूछा "कौन से राम जी को ?

Saturday, 4 December 2021

159 - सच्ची प्रार्थना क्या होती ?

शिष्य ने गुरु से पूछा - हम प्रार्थना करते हैं, तो होंठ हिलते हैं पर आपके होंठ नहीं हिलते ? आप

Saturday, 27 November 2021

158 - साधु की पहचान कैसे होती है ?

किसी जंगल में एक संत महात्मा रहते थे। सन्यासियों वाली वेश भूषा थी और बातों में सदाचार का भाव, चेहरे पर इतना तेज था कि कोई भी इंसान उनसे प्रभावित हुए नहीं रह सकता था।

Saturday, 13 November 2021

157 - दुःख से छूटने का क्या उपाय है ?

एक व्यक्ति अपने गुरु के पास गया और बोला, गुरुदेव, दुख से छूटने का कोई उपाय बताइए। शिष्य ने थोड़े शब्दों में बहुत बड़ा प्रश्न किया था। दुखों की दुनिया में जीना लेकिन उसी से मुक्ति

Popular Posts