Saturday, 25 September 2021

150 - लोग लड़ाई-झगड़ा क्यों करते हैं ?

एक संत भिक्षा में मिले अन्न से अपना जीवत चला रहे थे। वे रोज अलग-अलग गांवों में जाकर भिक्षा मांगते थे। एक दिन वे गांव के बड़े सेठ के यहां भिक्षा मांगने पहुंचे। सेठ ने संत को थोड़ा अनाज दिया

Sunday, 19 September 2021

149 - मौत पल पल हमे क्या चेताती रहती है ?



मौत के लिए हर वक्त तैयार रहना चाहिए. एक वकील के घर चित्रगुप्त का दूत यमराज आया और

Friday, 10 September 2021

148 - शब्द-धुन को सुनना क्या होता है ?

 


भजन का मतलब है शब्द-धुन को सुनना, इसे संत-महात्माओं ने शब्द-योग का अभ्यास भी कहा है। यह काम आत्मा करती है या फिर इसे सुरत द्वारा किया जाता है। दिव्य शब्द-धुन को सुरत अथवा

Saturday, 4 September 2021

147 - एक राजा ने साधु के ज्ञान का अंदाजा कैसे लगाया ?

किसी राजमहल के द्वारा पर एक साधु आया और द्वारपाल से बोला कि भीतर जाकर राजा से कहे कि उनका भाई आया है।

Saturday, 28 August 2021

146 - सुखी और सफल जीवन की कुंजी क्या है ?

मनुष्य मन के संकल्प और विकल्प पानी के बुलबुले की तरह ही एक क्षण में बनते और दूसरे ही क्षण में फूट भी जाने वाले अर्थात् मिट जाने वाले हैं। इसलिए हमारे महापुरुषों ने निर्णय दिया है कि कभी

Sunday, 22 August 2021

145 - गुरू के चरणों में अरदास कैसे करते हैं ?

एक गुरू का दास रोज गुरू के द्वार पर जा कर रोज गुरू को पुकारा करता था. लेकिन गुरू के दर्शन नहीं कर पाता था. इसलिए वह हमेशा यही सोच कर चला जाता था कि शायद मेरी भक्ति भाव में कुछ

Saturday, 14 August 2021

144 - परमात्मा के साथ मिलाप कैसे हो सकता है ?

एक बादशाह का वजीर बहुत बुद्धिमान और परमार्थी विचारों वाला था। एक दिन बादशाह ने वजीर से पूंछा कि, परमात्मा के साथ मिलाप कैसे हो सकता है ? वज़ीर ने कहा कि, परमात्मा स्वयं कामिल

Sunday, 1 August 2021

143 - भजन सिमरन हर रोज एक संघर्ष

दयाबाई सावधान करती हैं कि सतगुरु को मनुष्य-भाव से देखने और समझने की अज्ञानता नहीं करनी चाहिये । सतगुरु के शरीर की ओर नहीं, बल्कि उनके अंदर काम कर रही प्रभु की शक्ति की

Saturday, 17 July 2021

142 - परमात्मा तक पहुँचने का सही रास्ता क्या है?

नाम बहुत मुश्किल से कमो भागों वालों को मिलता है इस सत्य को जानो और इसकी संभाल करो. नाम की कमाई करो उनसे पूछ के देखो जिन्हे नाम नहीं मिला कितना तरसते है. नाम लेने के लिए कयोकि जो सतगुरू जी ने हमें

Sunday, 27 June 2021

141 - जीवन क्या है ?


एक पवित्र यज्ञ। लेकिन उन्ही के लिए जो सत्य के लिए स्वयं की आहुति देने को तैयार होते है।

Popular Posts