Friday, 28 February 2020

088 - एक सत्संगी के कोन से चार रतन हैं ?


1. पहला रत्न है :-  " माफी " 

तुम्हारे लिए कोई कुछ भी कहे, तुम उसकी बात को कभी अपने मन में न बिठाना, और ना ही उसके लिए कभी प्रतिकार की भावना मन में रखना, बल्कि उसे माफ़ कर देना। 

2. दूसरा रत्न है :-  "भूल जाना "

अपने द्वारा दूसरों के प्रति किये गए उपकार को भूल जाना, कभी भी उस किए गए उपकार का प्रतिलाभ मिलने की उम्मीद मन में न रखना। 

3. तीसरा रत्न है :- "विश्वास"

हमेशा अपनी मेहनत और उस परमपिता परमात्मा पर अटूट विश्वास रखना । यही सफलता का सूत्र है ।

4. चौथा रत्न है :-  "वैराग्य" 
हमेशा यह याद रखना कि जब हमारा जन्म हुआ है तो निश्चित ही हमें एक दिन मरना भी है !  इसलिए बिना लिप्त हुए जीवन का आनंद लेना ! वर्तमान में जीना ! यही जीवन का असल सच है.


GuruBox Gyan Mobile application for Android phone




No comments:

Post a comment

Popular Posts