Friday, 5 March 2021

133 - जीवन कितना है ?

एक बार गुरु नानकदेवजी ने बाले और मर्दाने से पूछा था -

 जीवन  कितना  है ?
  इस पर बाले ने कहा - आज का सूरज चढ़िया है कल का पता नहीं चढे़गा या नहीं।

इस पर नानकदेवजी कहने लगे - जीवन इतना बड़ा तो नहीं है। मर्दाने तू बता।
मर्दाना कहने लगा - सच्चे पातशाह ! अब जो घड़ी आई है, पता नहीं अगली घड़ी आयेगी भी या नहीं !

नानकदेवजी कहने लगे -  अभी भी बहुत दूर की बात कर रहे हो। जीवन तो इतना भी नहीं है।
  इस पर दोनों ने हाथ जोड़कर कहा - सच्चे पातशाह ! फिर आप ही बताओ।

गुरु नानकदेवजी ने कहा -  जीवन एक श्वांस का खेल है। अगर अन्दर आ गया, बाहर ना आये। अगर श्वांस बाहर आ जाये, वापस अन्दर ना जाये। एक श्वांस का खेल है। इसलिए, हर स्वाँस में सिमरन करो ।


No comments:

Post a comment

Popular Posts